ब्रेकिंग न्यूज़
  • एन एच-24 के चौड़ीकरण का काम अभी तक भी शुरू नहीं हुआ है, मोदी जी| 2014 के संसदीय चुनावों के कुछ समय बाद ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली की गाजीपुर मंडी के सामने से होकर जान वाले नेशनल हाईवे (NH-24) को चौड़ा करने के कार्यक्रम का शिलान्यास किया था तथा घोषणा भी की थी कि यह काम यू.पी. चुनावों से पहले ही पूरा कर दिया जाएगा|
  • आम जनता में भय का वातावरण बना हुआ है| राजा व प्रजा का सम्बन्ध पिता व पुत्र जैसा होना चाहिए- किन्तु देश में इस समय ऐसा बिलकुल भी नहीं है| आम आदमी मोदी जी के नाम से काफी डरता है| आदर्श पंचायती राज के जनवरी 2017 के अंक में राजस्थान के जोगी गणेश नाथ ने बताया था कि राजस्थान के गांवों से पशुचोर व गौ-तस्कर किस प्रकार से गायों को सरेआम उठा कर ले जाते हैं|
  • गंगा की सफाई के नाम पर हजारों करोड़ डकारे जा रहे हैं, प्रधानमंत्री जी| वर्ष 2014 के संसदीय चुनावों के समय मोदी जी ने वाराणसी से चुनावी पर्चा भर कर जब देश के लोगों को बताया था कि उन्हें माँ गंगा ने वहाँ बुलाया है, तो देश के करोड़ों हिन्दुओं को लगा था कि अब जरुर माँ गंगे के दिन बहुर जाएँगे|
  • मरे ही तो एक सौ से ज्यादा हैं पर हजारों से भी ज्यादा तो अधमरे कर दिए हैं, मोदी जी की इस नोटबंदी ने| नोटबंदी के बाद मोदी जी ने टेलीविजन पर आकर कहा था कि नोटबंदी की परेशानी सिर्फ 50 दिनों तक झेलनी पड़ेगी, इसके बाद आम आदमी को कोई भी परेशानी नहीं होगी- नोटबंदी के बाद पचास दिनों के दौरान ही देशभर में 100 से अधिक लोगों की तो मौत के समाचार सुनने को मिल गए और अब सौ-सवा सौ दिनों के बाद तो हालात और भी बदतर नजर आने लगे हैं|
  • मोदी जी की नोटबंदी ने लोगों के प्रेमभाव को भी ख़तम कर दिया है| हमारे देश के गाँवों के परिवारों में प्रेम व भाई-चारा जो कई-कई पीढ़ियों से चला आ रहा था वह भी मोदी जी ने एक ही झटके में तोड़ दिया है| मोदी जी द्वारा 8 नवम्बर 2016 की शाम अचानक नोटबंदी की घोषणा के बाद कई परिवारों के सामने मुसीबत खड़ी हो गई थी| ग्रामीण क्षेत्र के किसान भाई अधिकतर लेन-देन कैश में ही करते हैं, गेंहूँ की बुआई सिर पर थी-इसीलिए सभी ने बीज व खाद के लिए पैसों का इंतजाम भी कर रखा था| इसके अलावा छोटे-छोटे काम धन्धे वालों को भी कच्चा माल व मजदूरों को पेमेंट कैश में ही करनी पड़ती है|

स्वास्थ्य

स्वास्थ्योपयोगी मेथी

  Intellegat quaerendum suscipiantur est epicurei delicata

आहार में हरी सब्जियों का विशेष महत्त्व है। आधुनिक विज्ञान के मतानुसार हरे पत्तोंवाली सब्जियों में 'क्लोरोफिल' नामक तत्व रहता है जो कि जन्तुओं का प्रबल नाशक है। दाँत एवं मसूढ़ों में सड़न उत्पन्न करनेवाले जंतुओं को यह 'क्लोरोफिल' नष्ट करता है। इसके अलावा इसमें प्रोटीन तत्त्व भी पाया जाता है।

पढ़ें पूर्ण अनुच्छेद

शीत ऋतु का सूखा मेवा: अंजीर

  Intellegat quaerendum suscipiantur est epicurei delicata

अंजीर की लाल, काली, सफेद और पीली ये चार प्रकार की जातियाँ पायी जाती हैं। इसके कच्चे फलों की सब्जी बनती है। पके अंजीर का मुरब्बा बनता है। अधिक मात्रा में अंजीर खाने से यकृत एवं जठर को नुकसान होता है। बादाम खाने से अंजीर के दोषों का शमन होता है।

पढ़ें पूर्ण अनुच्छेद

स्वास्थ लाभ हेतु कुछ लाभकारी प्रयोग

  Intellegat quaerendum suscipiantur est epicurei delicata

चाय मनुष्य शरीर पर चाय का बहुत ही खराब असर होता है| चाय प्राकृतिक स्थिति के विरुद्ध हृदय की धड़कनें बढ़ाती है| स्नायुतंत्र के ऊपर प्रकृति-विरुद्ध असर डालकर अनिद्रा का रोग उत्पन्न करती है| आरोग्यता की- दृष्टि से दोनों बातें नुकसानप्रद हैं|

पढ़ें पूर्ण अनुच्छेद

तिल का तेल

  Intellegat quaerendum suscipiantur est epicurei delicata

तेल वायु के रोगों को मिटाता है, परंतु तिल का तेल विशेष रूप से वितघ्न है। तेल अपनी स्निग्धता, कोमलता और पतलेपन के कारण शरीर के समस्त स्त्रोतों में प्रवेश धीरे-धीरे मेद का क्षय कर दोषों को उखाड़ फेंकता है। तिल का तेल अन्य तेलों की अपेक्षा श्रेष्ठ है। महर्षि चरक तिल के तेल को बलवर्धक, त्वचा के लिए हितकर, गर्म एवं स्थिरता देने वाला मानते हैं।

पढ़ें पूर्ण अनुच्छेद

वर्षा ऋतुचर्या

  Intellegat quaerendum suscipiantur est epicurei delicata

वर्षा ऋतु में वायु का विशेष प्रकोप तथा पित्त का संचय होता है। वर्षा ऋतु में वातावरण के प्रभाव के कारण स्वाभाविक ही जठराग्नि मंद रहती है, जिसके कारण पाचनशक्ति कम हो जाने से अजीर्ण, बुखार, वायुदोष का प्रकोप, सर्दी, खाँसी, पेट के रोग, कब्जियत, अतिसार, प्रवाहिका, आमवात, संधिवात आदि रोग होने की संभावना रहती है।

पढ़ें पूर्ण अनुच्छेद

जानिए मस्तक पर तिलक लगाने का धार्मिक और वैज

  Intellegat quaerendum suscipiantur est epicurei delicata

टीका अथवा बिंदिया आदि का सीधा सम्बन्ध मस्तिष्क से होता है । मनुष्य की दोनों भौंहो के बीच आज्ञा चक्र होता है । इस चक्र पर ध्यान केंद्रित करने पर साधक का मन पूर्ण शक्ति संम्पन हो जाता है।

पढ़ें पूर्ण अनुच्छेद


Please Enter your User Name & Password

Forgot Password?

Forget Password